.

शुक्रवार, 31 जुलाई 2009

पूर्व महारानी गायत्री देवी -- यादें बाकी रह गयीं





3 टिप्‍पणियां:

SU MAN ने कहा…

चाँद जी ,राजमाता का साक्षात्कार पढा .लगा जीवित हो बोल उठीं . ऐसे समय में यह आपकी उनके प्रति सच्ची भावना और श्रद्धांजलि प्रेषित होगी .इसके लिए आपको ढेरों शुभकामनाएं .

डॉ मोनिका शर्मा ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
डॉ मोनिका शर्मा ने कहा…

namaskar sir, net access karte hue achanak apke blog par aana hua.....
apki book ke liye dheron badhiyan. Rajmata ka interview padha.... bahut achha laga. warm wishes